Monday , July 4 2022
Home / CHANDIGARH / नशे पर बड़ा प्रहार, 14 दिन में 14 गिरफ्तार ; संपत्ति जब्त करने के लिए कार्रवाई शुरू

नशे पर बड़ा प्रहार, 14 दिन में 14 गिरफ्तार ; संपत्ति जब्त करने के लिए कार्रवाई शुरू

  • पंचकूला के लिए मांगी 2 पुलिस कंपनियां, विधान सभा अध्यक्ष लिखेंगे सीएम को पत्र
  • 12 आरोपितों के खिलाफ गैर जमानती धाराओं के तहत केस

 

चंडीगढ़, 26 मई (प्रेस की ताकत बयूरो)- पंचकूला जिले से नशाखोरी की जड़ें उखाड़ने के लिए हरियाणा विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता के निर्देश पर शुरू की गई नशा उन्मूलन मुहिम ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है। इस मुहिम के तहत पुलिस ने बीते 14 दिन में 14 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इतना ही नहीं नशाखोरी के धंधे में संलिप्त लोगों की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई भी शुरू हो चुकी है। वहीं, दूसरी ओर पुलिस व शिक्षा विभाग नुक्कड़ नाटकों और विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं के माध्यमों से जन-जागरूकता अभियान में जुट गए हैं। अभियान की समीक्षा के लिए विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने वीरवार को विस सचिवालय में शहर के मेयर, जिला उपायुक्त, आला पुलिस अधिकारियों और नशा उन्मूलन कमेटी के साथ बैठक की। बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने नशा उन्मूलन अभियान के तहत की गई कार्रवाई का ब्योरा पेश किया। उन्होंने विधान सभा अध्यक्ष से पंचकूला में पुलिस बल बढ़ाने की मांग भी की। इसके लिए विधान सभा प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखेंगे।

गौरतलब है कि विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने बीती 12 मई को बैठक कर जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों को नशा उन्मूलन अभियान शुरू करने के निर्देश दिए थे। 14 दिन बाद 26 मई को अभियान की समीक्षा के लिए बैठक बुलाई गई। पंचकूला पुलिस आयुक्त हनीफ कुरैशी ने बताया कि विस अध्यक्ष के निर्देश पर शुरू गए इस अभियान के तहत 12 मई के बाद अब तक 12 केस दर्ज कर 14 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। इन आरोपितों से 54.57 ग्राम हेरोइन, 3 किलो 960 ग्राम चूरापोस्त, 1 किलो 124 ग्राम गांजा, 520 ग्राम चरस और 358 ग्राम अफीम बरामद की गई है। 14 में से 12 आरोपितों की गिरफ्तारी गैर जमानती धाराओं के तहत की गई है। पंचकूला पुलिस उपायुक्त सुरेंद्र पाल ने बताया कि नशा खोरी में दोषी पाए लोगों की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई शुरू हो चुकी है। बता दें के सुरेंद्र पाल के पंचकूला में डीसीपी पदभार संभालने के बाद यह पहली बैठक रही।

पुलिस आयुक्त हनीफ कुरैशी ने कहा कि पंचकूला को चडीगढ़ की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है, लेकिन अभी यहां पुलिस बल चंडीगढ़ के अनुपात में काफी कम है। उन्होंने दोनों शहरों के जनसांख्यिकी आंकड़े पेश करते हुए कहा कि चंडीगढ़ में करीब 12 लाख जनसंख्या पर पुलिस के लिए 244 चार पहिया हल्के वाहन, 480 मोटरसाइकिल और 4138 सिपाही हैं। वहीं पंचकूला की आबादी 6.2 लाख पहुंच चुकी है, लेकिन पुलिस बल के मामले में यह शहर चंडीगढ़ के सामने कहीं भी नहीं टिकता। यहां मात्र 72 चार पहिया छोटे वाहन, 85 मोटरसाइकिल और 674 पुलिस सिपाही हैं। चंडीगढ़ में कुल पुलिस बल 5775  जबकि पंचकूला में 1075 संख्या का है। कुरैशी ने कहा कि पंचकूला प्रदेश की लघु राजधानी के तौर पर प्रयोग हो रहा है, जिसके चलते यहां आए दिन प्रदेश स्तरीय आयोजन तथा अनेक प्रकार के धरने-प्रदर्शन होते हैं। इनकी व्यवस्था संभालने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल लगाना पड़ता है। उन्होंने विधान सभा अध्यक्ष से आग्रह किया कि यहां कम से कम 2 पुलिस कंपनियों की और जरूरत है। विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि वे इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आग्रह करेंगे और पंचकूला में संसाधनों की कमी नहीं रहने दी जाएगी। गौरतलब है कि एक पुलिस कंपनी में एक इंस्पेक्टर, 3 सब-इंस्पेक्टर, 9 हैड कॉन्स्टेबल तथा 72 कॉन्स्टेबल होते हैं।

जिला उपायुक्त महावीर कौशिक ने बताया मुहिम को तेज करने के लिए कई विभागों की समन्वय समिति बना दी गई है। इसमें पुलिस और शिक्षा विभागों के साथ-साथ शहर के गणमान्य नागरिकों और सेवानिवृत अधिकारियों की मदद ली जा रही है। उन्होंने बताया कि जल्द ही शिक्षण संस्थानों की ओर से नाटक तैयार करवाए जाएंगे तथा स्लोगन व पेंटिंग प्रतियोगिताओं के माध्यम से मुहिम को तेज किया जाएगा। बैठक में उपस्थित मोटिवेशनल स्पीकर विवेक अत्रे ने कहा कि स्कूल और कॉलेजों में शिक्षकों को क्लासरूम में बच्चों को नशाखोरी की समस्या के प्रति आगाह करना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षक-अभिभावक बैठकों के दौरान भी इस विषय की गंभीरता के बारे में बात करनी चाहिए। इस जाल में फंसे युवाओं की काउंसिलिंग के भी प्रबंध करने होंगे।

वहीं, विस अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि नशाखोरी समाज की जड़ों को खोखला कर रही है। यह हमारी पीढ़ियों की बर्बादी का रास्ता बना रही है। हम इस समस्या को किसी भी कीमत पर पनपने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि इस समस्या से निजात पाने के लिए सख्त कार्रवाई के साथ-साथ जागरूकता मुहिम तेज करनी होगी। विस अध्यक्ष ने अधिक से अधिक नुक्कड़ नाटक तैयार करवाने के निर्देश दिए।

विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने पुलिस की ओर से जारी व्हाट्सअप 7087081100 पर आने वाली सूचनाओं का भी ब्योरा लिया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लोग इस व्हाट्सअप नंबर पर अनेक गंभीर और उपयोगी सूचनाएं भेज रहे हैं। पुलिस के लिए ये सूचनाएं काफी सहायक साबित हो रही हैं। विस अध्यक्ष ने कहा कि नशाखोरों का सुराग मिलने के बाद उनके मूल स्रोत तक पहुंचना होगा। गुप्ता ने कहा कि इस मामले में पुलिस को पूरी ईमानदारी और कर्तव्यपरायणता की भावना से काम करना होगा। बैठक में शहर के मेयर कुलभूषण गोयल, नशा उन्मूलन समिति के सदस्य सेवानिवृत आईपीएस अधिकार वीके कपूर, एसीपी राजकुमार कौशिक, एसीपी यातायात राजकुमार सिंह, समिति सदस्य डीपी सोनी और डीपी सिंहल भी उपस्थित रहे।

About admin

Press Ki Taquat(Daily Punjabi Newspaper) Patiala

Check Also

पंजाब के द्वारा नशों की तस्करी के लिए जम्मू बना नया अड्डा – गुरदासपुर से 16 किलो हेरोइन बरामद

*  तस्करों की तरफ से पड़ोसी राज्य जम्मू से लायी जा रही थी खेप, जांच …